राज्य युवा कल्याण परिषद

   
 

प्रदेश में गठित उ०प्र० राज्य युवा कल्याण परिषद के संबंध में टिप्पणी

शासन द्वारा वर्ष 1977 में गठित उत्तर प्रदेश राज्य युवा कल्याण परिषद को युवावर्ग के क्रिया-कलापों के सम्पादन का दायित्व दिया गया। परिषद का कार्यकाल समय-समय पर बढ़ाया जाता रहा है। कार्यालय ज्ञाप संख्या-2911/पचास-यु०क०-2002-260/89, दिनांक 14 जनवरी, 2003 द्वारा परिषद का कार्यकाल 06 वर्ष हेतु बढ़ाया गया है।

उत्तर प्रदेश राज्य युवा कल्याण परिषद के अध्यक्ष मा० मुख्यमंत्री जी हैं। मा० युवा कल्याण मंत्री जी इस परिषद की कार्यकारिणी समिति के पदेन अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष (प्रथम) हैं। परिषद में समय-समय पर उपाध्यक्ष (द्वितीय) का नामांकन किया जाता है। उत्तर प्रदेश राज्य युवा कल्याण परिषद के सचिव, सचिव युवा कल्याण एवं प्रशासक एवं विभागाध्यक्ष-महानिदेशक, युवा कल्याण, उत्तर प्रदेश हैं।

उत्तर प्रदेश राज्य युवा कल्याण परिषद के क्रिया-कलापों को सुचारू रूप से संचालित करने हेतु रू० 2.00 करोड़ की धनराशी से राज्य युवा कल्याण परिषद की निधि स्थापित की गई तथा इस युवा कल्याण निधि की नियमावली शासकीय विज्ञप्ति संख्या-1820/पचास-यु०क०-83-115 पीवीडी/82, दिनांक 31 अक्टूबर, 1983 द्वारा प्रकाशित की गई। उपरोक्त निधि के अन्तर्गत स्वीकृत रू० 2.00 करोड की राशि उ०प्र० राज्य सडक परिवहन निगम को ऋण के रूप में इस शर्त के साथ प्रदान की गई, कि निगम प्रतिवर्ष उक्त राशि के 12% की दर से ब्याज की राशि निधि के प्राप्ति शीर्षक में जमा करेगा और ब्याज के समतुल्य राशि के व्यय हेतु प्राविधान सामाजिक सुरक्षा एवं कल्याण कार्यक्रम के अधीन उपशीर्षक युवा कल्याण कार्यक्रम के अन्तर्गत कराया जायेगा। कालान्तर में निधि के अन्तर्गत उपर्युक्त रू० 2.00 करोड़ के अतिरिक्त रू० एक-एक करोड़ इस प्रकार कुल रू० 2.00 करोड़ की और अभिवृद्धि की गई। उपर्युक्त निधि की धनराशि के सापेक्ष अर्जित ब्याज की धनराशि से राज्य युवा कल्याण परिषद के कार्यक्रमों/योजनाओं का क्रियान्वयन किया जाता है।

परिषद में कार्यरत कार्मिकों का विवरण अधोप्रकार है :-

क्र०सं०

पद का विवरण

संख्या

1

वैयक्तिक सहायक

01

2

प्रवर वर्ग सहायक

01

3

चालक

02

4

चपरासी

01